Home Shayari & status Badi Aarzoo Thi Shayari

Badi Aarzoo Thi Shayari

121
1
SHARE

बड़ी आरज़ू थी मोहब्बत को बेनकाब देखने की,
दुपट्टा जो सरका तो जुल्फें दीवार बन गयी।

Badi Aarzoo Thi Mohabbat Ko Benaqab Dekhne Ki,
Dupatta Jo Sarka To Zulfein Deewar Ban Gayi.

badi-aarzoo-thi-mohabbat-ko-benaqab-karne-ki-aarzoo-shayari
Badi Aarzoo Thi

आज खुद को तुझमे डुबोने की आरज़ू है,
क़यामत तक सिर्फ तेरा होने की आरज़ू है,
किसने कहा गले से लगा ले मुझको, मग़र,
तेरी गोद में सर रखकर सोने की आरज़ू है।

Aaj Khud Ko Tujhme Dubone Ki Aarzoo Hai,
Kayamat Tak Sirf Tera Hone Ki Aarzoo Hai,
Kisne Kaha Gale Se Laga Le Mujhko Magar,
Teri God Me Sir Rakhkar Sone Ki Aarzoo Hai.

सितारों की महफ़िल ने करके इशारा,
कहा अब तो सारा जहाँ है तुम्हारा,
मुहब्बत जवाँ हो, खुला आसमाँ हो,
यही है दिल की आरज़ू और क्या हो

Sitaron Ki Mahfil Ne Karke Ishara,
Kaha Ab To Sara Jahan Hai Tumhara,
Mohabbat Jaban Ho, Khula Aasma Ho,
Yahi Hai Dil Ki Aarzoo Aur Kya Ho.

तेरे‬ इश्क का कितना हसीन एहसास है,
लगता है जैसे तू हर ‪पल‬ मेरे पास है,
‪मोहब्बत‬ तेरी दिवानगी बन चुकी है मेरी,
और अब जिन्दगी की ‪आरजू‬ बस तेरे साथ है।

Tere Ishq Ka Kitna Haseen Ehsaas Hai,
Lagta Hai Jaise Tu Har Pal Mere Pas Hai,
Mohabbat Teri Diwangi Ban Chuki Hai Meri,
Aur Ab Zindagi Ki Aarzoo Bas Tere Sath Hai.

Give us 5 star Rating..

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here